मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की|Who founded the Maurya Empire

               मौर्य साम्राज्य

मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की। मौर्य साम्राज्य का अंतिम शासक। मौर्य साम्राज्य का परिचय। मौर्य साम्राज्य अशोक। मौर्य साम्राज्य का अंत कब हुआ। मौर्य साम्राज्य का अंत। मौर्य साम्राज्य का उदय। मौर्य साम्राज्य के बारे में बताएं। मौर्य का साम्राज्य। मौर्य साम्राज्य विकिपीडिया। मौर्य साम्राज्य के बारे में जानकारी Who founded the Maurya Empire?  The last ruler of the Maurya Empire.  Introduction to the Maurya Empire 


  • मौर्य वंश की स्थापना चंद्रगुप्त मौर्य ने की थी और इनका जन्म 345 ई पू में हुआ था।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य का प्रधानमंत्री चाणक्य था। इसी की सहायता से इसने घनानन्द को हराया था।
  • चाणक्य ने अर्थशात्र नामक पुस्तक लिखी। इस पुस्तक का सम्बंध राजनीति से है।
  • तक्षशिला धनुर्विद्या तथा वैदिक शिक्षा के लिये पूरे विश्व में प्रसिद्ध था। चंद्रगुप्त मौर्य ने अपनी सैनिक शिक्षा यही से प्राप्त की थी। 
  • कौशल के राजा प्रेसेनजीत मगध का राजवैद्य जीवक चाणक्य ने भी यही पर शिक्षा प्राप्त की थी।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य जैन धर्म का अनुयायी था।
  • इसका धार्मिक गुरु भद्रबाहु था।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य ने 305 ई पू में सेल्युकस निकेटर को हराया। चन्द्रगुप्त मौर्य की सेना छः भागो में बटी थी।
  • सेल्युकस निकेटर ने अपनी पुत्री कनैलिया की शादी चंद्रगुप्त मौर्य के साथ कर दी। 
  • कनैलिया का दूसरा नाम हेलेना था।
  • मेगस्थनीज, सेल्युकस निकेटर का राजदूत था। जो चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में रहता था।
  • मेगस्थनीज ने इंडिका नामक पुस्तक लिखी ।
  • मेगस्थनीज ने भारतीय समाज को सात जातियों में विभक्त किया है। इसने पाटलिपुत्र को पालिब्रोथा नाम दिया था।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य के बारे में जानकारी रुद्रदामन के जूनागढ़ अभिलेख से मिलती है। यह अभिलेख ब्राही लिपि में है।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य और सेल्युकस निकेटर के बीच हुए युद्ध का वर्णन एम्पियन्स में किया गया है। चन्द्रगुप्त मौर्य ने सेल्युकस निकेटर को 500 हाथी उपहार दिये थे।
  • चंद्रगुप्त की मृत्यु 298 ई पू में श्रवणबेलगोला (कर्नाटक) में हुआ था।             
       

           बिन्दुसार


  • चन्द्रगुप्त मौर्य का उत्तराधिकारी बिन्दुसार था, जो 298 ई पू में मगध की गद्दी पर बैठा।
  • बिन्दुसार को अमित्रघात भी कहते हैं। अमित्रघात का अर्थ शत्रु विनाशक होता है।
  • बिन्दुसार आजीवक सम्प्रदाय का अनुयायी था।
  • बिंदुसार के दरबार मे डायमेकस नामक राजदूत को सीरियन के राजा एण्टियोकस ने भेजा था।
  • बौद्ध विद्वानों तारानाथ ने बिन्दुसार को 16 राज्य का विजेता बताया था।
  • जैन ग्रंथो में बिन्दुसार को सिंहसेन कहा गया हैं।
  • तक्षशिला में हुए विद्रोह को दबाने के लिये बिन्दुसार ने अशोक को भेजा था। 
  • तक्षशिला का मुख्य कारण अधिकारीयो का दुव्यर्वहार था।
                 

               अशोक

  • बिंदुसार का उत्तराधिकारी अशोक महान हुआ, जो 269 ई पू में मगध की राजगददी पर बैठा। अशोक ने कश्मीर में श्रीनगर बसाया।
  • अशोक ने नेपाल में ललिपट्टन नगर बसाया।
  • राजगददी पर बैठने के समय अशोक अवन्ति का राज्यपाल था।
  • मास्की एंव गुर्जरा अभिलेख में अशोक का नाम अशोक मिलता हैं।
  • पुराणों में अशोक को अशिकवर्धन कहा गया है।
  • अशोक ने राजगददी पर बैठने के 8 वर्ष बाद 261 ई पू में कलिंग पर आक्रमण कर दिया और कलिंग की राजधानी तोसलि पर अधिकार कर लिया।
  • कलिंग का राजा खारवेल था, जो जैन धर्म का अनुयायी था।
  • इस युद्व में भयंकर मार-काट को देखकर अशोक को बहुत दुःख हुआ और उसने कभी भी युद्ध नही करने का निर्यण लिया, इस युद्ध के बाद अशोक ने बौद्ध धर्म अपना लिया। 
  • पहले वह भगवान शिव की पूजा करता था। अशोक के प्रधानमंत्री का नाम राधागुप्त था।
  • अशोक का धार्मिक गुरु उपगुप्त था। अशोक की माता का नाम सुभद्रांगी था। वह चंम्पा के एक ब्राह्मण की पुत्री थी। असन्धिमित्रा  एंव करूवाकि अशोक की पत्नियां थी। 
  • भारत मे शिलालेख का सबसे पहले प्रचलन अशोक ने किया।
  • अशोक द्वारा शिलालेखों में ब्राही,खरोष्ठी,ग्रीक एंव आरमाइक लिपि का प्रयोग हुआ है।
  • अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार के लिये अपने पुत्र महेंद्र एंव पुत्री सघमित्रा को श्रीलंका भेजा।
  • अशोक के शिलालेख 1837 ई पू में सर्वप्रथम जेम्स प्रिंसेप ने पढ़े थे। इनकी संख्या 14 है। अशोक के शिलालेख की खोज 1750 ई में फेंथैलर ने की थी।
  • अशोक के स्तम्भ-लेखों की संख्या 7 हैं। ये केवल ब्राही लिपि में लिखे गये।
  • अशोक के दरबार मे डियानिसियस नामक राजदूत आया था, जो मिस्र के राजा फिलडेफलक ने भेजा था।
  • अशोक के शिलालेख में सबसे लंबा शिलालेख 7वाँ हैं।
  • कौशाम्बी अभिलेख को रानी का अभिलेख कँहा जाता है।
  • अशोक का सबसे छोटा स्तम्भ-लेख रुम्मीदेई हैं।
  • अशोक का सार-ए-कुना अभिलेख ग्रीक एंव आरमाइक भाषा मे है।
  • कलिंग के युद्ध का वर्णन 13वे शिलालेख में हैं।
  • मौर्य वंश का शासन 137 वर्षो तक रहा।
  • मौर्य वंश का अंतिम शासक बृहदृथ था।
  • इसकी हत्या इसके सेनापति पुष्पमित्र शुंग ने 185 ई पू में कर दी और मगध पर शुंग वंश की नींव डाली।
  • अशोक का नाम देवनाम प्रिय (देवताओं का प्रिय) भी हैं।

FAQ CHEAKLIST:-



प्रश्न - मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की?
उत्तर - मौर्य साम्राज्य की स्थापना चंद्रगुप्त मौर्य ने की थी।


प्रश्न - मौर्य साम्राज्य का अंतिम शासक?
उत्तर - मौर्य वंश का अंतिम शासक बृहदृथ था।


प्रश्न - मौर्य साम्राज्य का अंत कब हुआ?
उत्तर - मौर्य वंश का अंत 185 ई में हुआ था।


प्रश्न - मौर्य साम्राज्य का अंत किसने किया?
उत्तर - मौर्य साम्राज्य का अंत पुष्यमित्र शुंग ने की थी।


प्रश्न - मौर्य साम्राज्य का तृतीय शासक कौन था?
उत्तर - मौर्य साम्राज्य का तृतीय शासक अशोक था।


निष्कर्ष :- आशा करता हूं यह पोस्ट आप लोगों को अच्छी लगी होगी और इस पोस्ट में आप लोगो को मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की|Who founded the Maurya Empire  के बारे में बताये  के बारे में पूरी जानकारी मिल गयी होगी अगर यह पोस्ट आप लोगो को अच्छी लगी हो तो अपने मित्रो के साथ शेयर जरूर करे धन्यवाद।

इसे भी पढ़े - 



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

लेखक

Hello दोस्तो मैं amit kumar इस ब्लॉग का writter और founder हुँ और इस वेबसाइट के माध्यम से education, entertainment, business,news,And festival Quotes बारे में जानकारी share करता हूं। सभी जानकारी हिंदी माध्यम से आप लोगो को पहुँचाया जाता हैं।